Charles Lamb
  English Study Point Logo


English Study Point
www.englishstudy.co.in






   
Click Here To Register YourselfClick Here To Sign In   
Welcome To English Study Point!              View My Photos On Facebook              Watch My Videos On Youtube
Home    Back    

Charles Lamb के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियाँ:-

BY-DINESH KUMAR

Note: हमारा मकसद शिक्षा को सुलभ और सरल बनाना है हमने बड़ी मेहनत से नोट तैयार किये है, हमारे द्वारा लिखने में सावधानी बरती गयी है फिर भी त्रुटी संभव है l आपसे अनुरोध है कि आप नोट के सत्यता कि पुष्टि कही और से कर लेंl

Charles Lamb अंग्रेजी साहित्य के प्रसिद्ध निबंधकार थेl आप गद्य शैली के कवि माने जाते हैंl आपकी रचना The Essays of Elia (1823) ने आपको बहुत प्रसिद्ध कर दियाl

आपका जन्म 10 फ़रवरी, 1775 को Inner Temple London जिसको Crown Office Row के नाम से भी जाना जाता है, में हुआ थाl आपके पिता जी का नाम जॉन लांब (John Lamb) और माता जी का नाम एलिज़ाबेथ लांब(Elizabeth Lamb) थाl आपसे बड़ी आपके पिता के दो संतान थीl एक आपसे 11 साल बड़ी बहन थी जिसका नाम मैरी लांब (Mary Lamb) था, और एक बड़ा भाई भी था जिसका नाम जॉन लांब (John Lamb) थाl

7 वर्ष की आयु में Christ Hospital में आपका दाखिला करा दिया गया जोकि West Sussex में स्थित थाl जहाँ पर आपका बड़ा भाई जॉन भी पढ़ता थाl वहां पर आप St. College के शिष्य रहेl बाद में इसी कॉलेज का जिक्र आपने अपने कई निबंधो में किया हैl यही पर आपकी दोस्ती Samuel Taylor Coleridge से हुईl और वे आपके ताउम्र दोस्त बने रहेl 7 साल से पहले आपको आपके बहन मैरी के द्वारा पढ़ाया जाता रहाl आप मैरी की मदद से कम उम्र में ही अच्छी तरह पढ़ लेते थेl उसके बाद आपको Mrs. Reynolds, और William Bird के द्वारा भी पढ़ाया गयाl

आप बचपन से ही हकलाते थे, आपकी जुबान अक्सर लड़खड़ाती थी, आप इस बीमारी से उबार नही पाएl यही बीमारी आपके आगे पढ़ाई के जीवन की सबसे बड़ी और अविजित बाधा बनीl आपके सरे सहपाठी आगे की पढाई करने चले गए, जैसे S.T.Coleridge और कुछ अन्य प्रखर बुद्धि बालक भी Cambridge में दाखिला लिएl

लेकिन आप Christ Hospital के बाद नही पढ़ सकेl 14 वर्ष की उम्र में ही आपको पढाई छोड़ना पड़ाl आपने सबसे पहले Joseph Paice के यहाँ कार्य करना प्रारंभ किये जोकि एक जाना माना व्यापारी थाl

आपने ईस्ट इंडिया कंपनी के ऑफिस से क्लर्क का काम सीखाl आप ईस्ट इंडिया कंपनी में 5 अप्रैल 1792 में कार्य करना प्रारम्भ कियेl

आपको 1792 में Anna Simmons(एना सिम्मोंस) से प्यार हो गया थाl उस समय आप अपने दादी की सेवा एवं देख-भाल कर रहे थेl आप लगातार कई वर्ष तक एना के पीछे पड़े रहेl आप अपने इस सम्बन्ध के बारे में अपने निबंध Rosamund Gray में जिक्र किये हैंl लेकिन अफ़सोस एना ने आपके की तरफ ध्यान नहीं दिया और एक Sliversmith से शादी कर लीl आप इससे काफी निराश हुए थेl

उसके बाद आप अपने पारिवारिक जिम्मेदारियों व बहन की बीमारी में उलझे रहे और कोई दूसरा प्यार नही खोज पाएl लेकिन 20 जुलाई 1819 को जब आप 44 वर्ष के थे तो एक बार फिर आपको प्यार हो गयाl उस लड़की का नाम Fanny Kelly थाl जोकि Covent Garden की एक अभिनेत्री थीl आपने इससे शादी का प्रस्ताव किये लेकिन अफ़सोस Fanny Kelly ने शादी करने से मना कर दियाl कहा जाता है कि आप कुवारे ही रहेl 1820 में आपने लन्दन पत्रिका के लिए Elia नाम से लिखना प्रारम्भ कियाl

आपने एक लड़की को गोद लिया था जिसका नाम एमा इसोला (Emma Isola) थाl

1834 में Coleridge की मृत्यु हो गयी जिससे आप काफी प्रभावित हुएl Coleridge आपके अच्छे दोस्त थे, आप समय समय पर Coleridge से पत्र व्यव्हार किया करते थेl लेकिन आप Coleridge के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो सके क्योकि अंतिम संस्कार में सिर्फ Coleridge के परिवार वालो को ही शामिल किया जाने की अनुमति थीl

आप जब 15 वर्ष की आयु में स्कूल से निकले तो आपको South Sea House में काम करने लगेl

आपकी बहन ने आपकी माता की हत्या कर दी थी और पिता जी को भी घायल कर दी थीl 1795 के आसपास आपकी और आपके बहन की मानसिक स्थित ठीक नहीं थीl आपका 6 सप्ताह तक मानसिक असंतुलन ठीक नहीं थाl आपके बहन मैरी की स्थित और भी जटिल थी तभी वो कभी-कभी घातक हमला भी कर देती थीl एक दिन ऐसा हुआ 22 सितम्बर 1796 का दिन था, मैरी अपने शिक्षार्थी जोकि एक छोटी सी लड़की थी, पर अपना आपा खो बैठी और उसको क्रूरता पूर्वक दुसरे कमरे में धकेल दिया, इसपर आपकी माँ मैरी पर गुस्सा होकर चिल्लाने लगीl मैरी ने किचन का चाकू लेकर अपनी माँ के कलेजे में घोप दिया जिससे आपके माँ की मृत्यु हो गयीl

एकदिन ऐसा भी आया की आपको पुरे 6 साल शरण स्थल(Asylum) में बिताना पड़ाl क्योकि आपके बहन की मानसिक स्थित ठीक नहीं थीl आपके बड़े भाई ने भी निरशा पूर्ण सलाह दिया की मैरी को पागल खाने डाल दिया जायेl लेकिन आप अपने बहन अब भी बहुत प्यार करते रहे और उसको अच्छे निजी मानसिक अस्पताल में रखेl

बाद में कानूनी प्रक्रिया भी मैरी के ऊपर चला लेकिन भाग्य बस मैरी को पागल मानते हुए उसे उम्र कैद न सुनते हुए अपराध से बरी कर दिया गयाl उसके बाद आप ही मैरी की सारी जिम्मेदारी उठाते रहेl मैरी की बीमारी ठीक नहीं हुई, रह रह कर मैरी अपना मानसिक संतुलन खो बैठती थीl आप मैरी को घर पर भी लाये थेl आप Pentonville के Mitre Court Buildings में रहने लगे थेl बाद में आप इतना निराश हो गए थे कि चाहते थे कि मैरी का देहांत हो जाये तो ही अच्छा हैl एक दिन ऐसा भी आया की मैरी की स्थित में काफी सुधर हुआ और आप दोनों एकसाथ खुश हाली पूर्ण जीवन जीने लगे थेl आपके यहाँ मेहमान के रूप में Coleridge, Percy Bysshe Shelley, William Wordsworth और उनकी बहन Dorothy आते रहते थेl कहा जाता है कि आपके माँ के हत्या के बाद से आपके पिता जी भी कुछ मानसिक रूप से परेशान सा रहते थेl 1799 में आपके पिता की मृत्यु हो गयीl

आप लगातार 25 वर्ष तक ईस्ट इंडिया कंपनी में ही कार्य करते रहेl बीच में आपके पिता जी की मृत्यु भी हो गयीl

27 दिसंबर, 1834 में, जब आप 59 वर्ष के थे, आपकी मृत्यु हो गयीl आपकी मृत्यु चेहरे में इन्फेक्शन के कारन हुई थीl कहा जाता है की आप गली में गिर पड़े थे जिससे आपके चेहरे में मामूली सा खरोच आ गया थाl इसी खरोच से आपके चेहरे में इन्फेक्शन हुआ थाl उस समय आप मैरी के साथ Church Street, Edmonton में रह रहे थेl आपको एडमानटन के All Saints' Churchyard में दफनाया गयाl बाद जब आपकी बहन मैरी की मृत्यु हुई तो उसको भी All Saints' Churchyard, Edmonton में ही आपके बगल दफना दिया गयाl

आपकी प्रमुख रचनायें इस प्रकार हैं-

  Blank Verse-poetry (1798)

  A Tale of Rosamund Gray and Poor Blind Margaret (1798)

  John Wodvil- poetic drama(1802)

  Tales from Shakespeare (1807)

  The Adventures of Ulysses (1808)

  Specimens of English Dramatic poets who lived about the time of Shakespeare (1808)

  On the Tragedies of Shakespeare (1811)

  Witches and Other Night Fears (1821)

  Essays of Elia (1823)

  The Pawnbroker's Daughter (1825)

  The Last Essays of Elia (1833)

  Eliana (1867)

 

 

 




 
© Copyright 2016, All right reserved © Notice!
Privacy Policy     Term & Conditions
Website designed by Mr. Dinesh Kumar
Email-english9228@live.com