Mercy
  English Study Point Logo English Study Pointwww.englishstudy.co.in
  
       Click Here To Register YourselfClick Here To Sign In
Welcome To English Study Point!                     Watch My Videos On Youtube
          

Mercy

By-William Shakespeare

About the Poem or Central Idea of The Poem (केन्द्रीय भाव):-

              In this poem there are strong appeal for mercy. According to the poet, mercy is the quality of God. Mercy lives in the heart of great man. It makes a man more great. It comes to the weak or guilty person from strong or noble person, as rain always comes from the sky to the earth. It is twice blest, because it blesses both giver and receiver. It makes a person very famous and popular. It becomes a king more than his worldly beauty and charm. Justice is great, justice given with mercy is greater than that. By mercy a king can impress his people more than his worldly power. The earthly power becomes Godlike when mercy is mixed with justice.


Lines Of Poetry

word

meaning

hindi

strained

forced

बल से

droppeth

drops down

नीचे गिरना

blesseth

blesses

आशीर्वाद देना

throned

Alive King

वर्तमान राजा

scepter

Royal rod

राजदंड

temporal

earthly

नाशवान

blest

blessed

आशीर्वाद देना

mercy

kindness

दयालुता

mightiest

most powerful

सर्वशक्तिमान

becomes

suits

शोभा देती है

monarch

king

राजा

doth

does

सहायक क्रिया

attribute

quality

गुण

awe

fear

डर

majesty

great power

वैभव

dread

fear

डर

tis

this

यह

seasons

mingle

मिलना



The quality of mercy is not atrain'd;

It droppeth as the gentle rain from heaven

Upon the place bebeath. It is twice blest:

It blesseth him that giveth and him that takes

"Tis mightiest in the mightiest: it becomes

The throned monarch better than his crown:

His scepter shows the force of temporal power,

The attribute to awe and majesty,

Wherein doth sit the dread and fear of kings:

But mercy is above this sceptred sway,

It is enthroned in the hearts of kings,

It is an attribute to God himself;

And earthly power doth then show like'st God's

When mercy seasons justice.



     The quality of mercy............................................................in the mightiest.

    Explanation in Hindi:-
           कवि कहता है कि दया का गुण बल पूर्वक अर्थात डरा धमकाकर किसी के दिन में उत्पन्न नहीं किया जा सकताl यह मनुष्य का स्वाभाविक तथा प्राकृतिक गुण है, यह स्वतः उत्पन्न होता हैl इसमें में बरसात की बूंदों जैसा स्वाभाव होता है, जैसे वर्षा की की सुखद बूंदें आसमान से धरती पर गिरती हैं, अर्थात ऊपर से नीचे गिरती है , वैसे ही दया भी ऊपर से नीचे को प्राप्त होता है, अर्थात शक्तिशाली से कमजोर को प्राप्त होता है जिस प्रकार से वर्षा की बूंदें नीचे से ऊपर नहीं जाती हैं, वैसे ही कमजोर व्यक्ति अपने से मजबूत और शक्तिशाली पक्ष पर दया नही दिखा सकताl कवि कहता है कि दया एक प्रकार से दोहरा बरदान है, क्योकि एक दया दिखाने वाले और दया पाने वाले दोनों को सुख और शांति प्रदान करता हैl दोनों ही मानसिक तनाव व द्वन्द से बच जाते हैंl दया का गुण शक्तिमानों में सर्व शक्तिमान हैl दया वही दिखा सकता है जो वास्तव में शक्तिशाली होता है, यह मनुष्य का सबसे महान गुण है, इसलिए इसको धारण करने वाला भी महान होता हैl


    It becomes ............................................................fear of kings.

    Explanation in Hindi:-
           दया ऐसा गुण होता है जो एक राजा को उसके मुकुट/ताज से ज्यादा शोभा देता हैl दयावान राजा अपने प्रजा में बहुत लोकप्रिय होता है और प्रजा अपने राजा को बहुत प्यार करती हैl यदि कोई राजा मुकुट तो धारण करता है लेकिन क्रूर और निर्दयी है तो प्रजा उससे नफ्रत करती हैl राजा के दंड देने वाले साधन उसके क्षणिक शक्ति के द्योतक होते हैं सांसारिक शक्ति के परिचायक हैं इन राजदंड के भय से अपनी प्रजा को बलपूर्वक अपना आदर करने को मजबूर करने वाली राजा के गुण कुछ ही समय के लिए होता हैl जहाँ प्रजा में राजा का डर अथवा खौफ बस जाता है वह प्रजा अपने राजा के शक्ति और भय का दिल डर बस सम्मान करती हैl लेकिन दयावान राजा का गुण-गान और सम्मान प्रजा अपने जान से भी ज्यादा करती हैl


    But mercy is...........................................................seasons justice.

    Explanation in Hindi:-
           लेकिन दया राजा के राज दंड से ज्यादा प्रभावशाली होता हैl दया राजाओं के दिलों में निवास करती करती है अर्थात जिसके दिल में दया होता है वह किसी राजा से काम नहीं होता हैl कहा जाये तो जिसके दिल में दया का भाव होता है वह बड़ा दिलवाला होता है जैसे की राजाl दया स्वंय ईश्वर का गुण हैl कवि कहता है कि जब सांसारिक न्याय में या फिर किसी राजा के न्याय में दया मिल जाती है तो वह ईश्वर के न्याय जैसा न्याय होता हैl उपर्युक्त सभी लाइन शेक्सपियर के 'Merchant of Venice' से ली गयी हैंl


 

 

Appreciation of The Poem(काव्यगत सौन्दर्य):-

       This poem is taken from Act IV, Scene I of 'Merchant of Venice.' It is a dramatic speech of Portia, made in the court of Venice. There were a cruel character 'Shylock' in play, who was a cruel money lender. There were two friends also ' Antonio' and 'Bassanio'. Antonio borrowed some money from Shylock with the agreement that if he fails to pay the money back in time, Shylock will cut 1 pound flesh from near his heart. Antonio fails to return the money and was prosecuted by Shylock.

Bassanio's wife 'Portia' disguised as a doctor of law, appears in the court on behalf of Antonio. She appeals Shylock to show mercy on him. She tries to change Shylock by an appeal for mercy and humanity. She tells the quality and benefits of mercy.

1-    There is use of 'Simile' in this line- "It droppeth.......place beneath."

2-    There is use of 'personification' in this line-"It isIt blesseth him that giveth and him that takes" and "Tis mightiest in the mightiest"

 

 
© Copyright, All right reserved © Notice!
Privacy Policy     Term & Conditions
Website designed by Mr. Dinesh Kumar
Email-english9228@live.com